मिड डे मील आयुक्तालय
राजस्थान सरकार

श्रीमती वसुंधरा राजे
माननीय मुख्यमंत्री राजस्थान

श्री वासुदेव देवनानी
माननीय शिक्षा मंत्री राजस्थान
मिड डे मील कार्यक्रम एक केन्द्रीय प्रवृत्ति योजना के रूप में 15 अगस्त 1995 को पूरे देश में लागू की गई थी। इसके पश्चात् सितम्बर 2004 में कार्यक्रम में व्यापक परिवर्तन करते हुए मेन्यू आधारित पका हुआ गर्म भोजन देने की व्यवस्था प्रारंभ की गई थी। वर्तमान में यह कार्यक्रम भारत सरकार के सहयोग से राज्य सरकार द्वारा राज्य के उच्च प्राथमिक स्तर तक के सभी राजकीय, अनुदानित, स्थानीय निकाय विभाग द्वारा संचालित शिक्षा गारंटी योजना,A.I.E,NCLP, मदरसा, आदि में संचालित किया जा रहा है। कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य प्राथमिक शिक्षा के सार्वजनिकरण को बढावा देने, विद्यालयों में छात्रों के नामांकन एवं उपस्थिति में वृद्धि, ड्राप आउट को रोकना तथा सीखने के स्तर को बढावा देना मुख्य है। मिड डे मील कार्यक्रम एक बहुद्देशीय कार्यक्रम तथा राष्ट्र की भावी पीढी के पोषण एवं विकास से जुडा हुआ है। इस कार्यक्रम में क्रियांन्वयन के प्रत्येक स्तर से जुडे व्यक्तियों द्वारा अपना सहयोग निरंतर दिया जाता रहा है।

विकेन्द्रीयकृत रसोईघर के लिए दिनवार भोजन मेन्यू
सोमवार रोटी - सब्जी
सोमवार रोटी - सब्जी
मंगलवार चावल एवं दाल अथवा सब्जी
बुधवार रोटी - दाल
गुरूवार खिचडी (दाल,चावल,सब्जी आदि युक्त)
शुक्रवार रोटी - दाल
शनिवार रोटी - सब्जी
सप्ताह में किसी भी एक दिन स्थानीय मांग के अनुसार भोजन उपलब्ध कराया जावे। सप्ताह मे एक दिन छात्रों को फल दिया जाना अनिवार्य होगा।
केन्द्रीयकृत रसोईघर के लिए दिनवार भोजन मेन्यू
सोमवार रोटी - सब्जी एवं चावल (सादा)
सोमवार रोटी - दाल एवं चावल (मीठा)
मंगलवार रोटी - दाल या बाटी - दाल
बुधवार रोटी - सब्जी एवं चावल (सादा)
गुरूवार खिचडी (दाल,चावल,सब्जी आदि युक्त)
शुक्रवार नमकीन खिचडी(दाल,चावल एवं सब्जी)
शनिवार रोटी - सब्जी
सप्ताह में किसी भी एक दिन स्थानीय मांग के अनुसार भोजन उपलब्ध कराया जावे। सप्ताह मे एक दिन छात्रों को फल दिया जाना अनिवार्य होगा।
आयुक्तालय द्वारा जारी आदेश / परिपत्र