मिड डे मील आयुक्तालय
राजस्थान सरकार

मिड डे मील राजस्थान

पूर्ण जानकारी हेतु कृपया "+" चिन्ह पर क्लिक करे।

मिड डे मील योजना का उद्देश्य प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों को गरम एवं पका हुआ खाना उपलब्ध कराना है। विधालयों में विधार्थियो के ठहराव एवं नामांकन मे वृद्धि भी इस योजना का उद्देश्य है। वर्तमान में मिड डे मील योजनांर्तगत राज्य के लगभग 66354 स्थानीय निकायों द्वारा संचालित विधालयों अनुदानित विधालयों स्पेशल ट्रेनिंग सेन्टर (ए.आई.सेन्टर, शिक्षा गारन्टी केन्द्रों, एन. सी. एल.पी. सेन्टर) तथा मदरसों में कक्षा 1-8 में पोषाहार उपलब्ध कराया जा रहा है।

  • बच्चों की पोषण संबंधी स्थिति में वृद्धि
  • नामांकन में वृद्धि और छात्रों को स्कूल में आने के लिए प्रोत्साहित करना
  • गर्मी की छुट्टियों के दौरान सूखा प्रभावित क्षेत्रों में बच्चों को पोषण सहायता प्रदान करना

स्कूल शिक्षा विभाग
मिड डे मील आयुक्तालय
जिला शिक्षा अधिकारी (प्रारम्भिक)
ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी
विधालय प्रबन्ध समिति(SMC)
केन्द्रीयकृत रसोईघर
स्वयंसेवी सहायता समूह(SHG)

* एस.एम.सी. :- विधालय प्रबन्ध समिति

क्रं.मदकेन्द्र अंशराज्य अंश
1.खाधान्न लागत100%-
2.परिवहन100%-
3.MME100%-
4.बर्तन100%-
5.कुक कम हेल्पर60%60%
6.भोजन पकाने की राशि60%40%
7.LPG कनेक्शन--100%
8.किचन कम स्टोर60%40

प्रत्येक विधालय स्तर पर गठित "शाला प्रबन्धन समिति (SMC)" जो विधालयों में विधार्थियों के लिए मिड डे मील स्कीम के अर्न्तगत गर्म भोजन की व्यवस्था करने हेतु जिम्मेदार है, के द्वारा कुक कम हेल्पर की सेवाएं मानदेय पर उक्त प्रयोजन हेतु हायरिंग पर ली जावेंगी।

कुक कम हेल्पर की परिभाषा-

कुक कम हेल्पर से अभिप्राय उस पुरुष/महिला से है जिसका निश्चित मानदेय पर राजकीय विधालयों, राजकीय अनुदानित विधालयों एवं मदरसों में मिड डे मील कार्यक्रम के अर्न्तगत विधार्थियों के लिए दोपहर का भोजन बनाने के लिए सहयोग लिया जावेगा। राजकीय या राजकीय अनुदानित विधालयों एवं मदरसों में विधार्थियों के लिए मिड डे मील कार्यक्रम के अर्न्तगत मध्यान्ह भोजन पकाने के लिए जिन व्यक्ति व्यक्तियों का निश्चित मानदेय पर सहयोग लिया जावेगा उसका सुपरविजन "शाला प्रबन्धन समिति (SMC)" द्वारा किया जायेगा एवं शाला प्रबन्धन समिति दवारा ही भोजन पकाने वाले व्यक्तियों को निर्धारित मासिक मानदेय देय होगा।
वर्तमान में राज्य में मिड डे मील योजनांर्तगत कुक कम हेल्पर्स कार्यरत है जिसकी वर्तमान स्थिति इस प्रकार है-

वर्गएससीएसटीओबीसीअल्पसंख्यकअन्यकुल
पुरुष107935735063331158011626
महिला107821595254670365514999100058
कुल118611952559733398616579111684

वर्तमान में राज्य में मिड डे मील योजनांर्तगत कार्यरत कुक कम हेल्पर्स को दिनांक 31-03-2017 तक मानदेय के रूप में प्रतिव्यक्ति रु 1000 प्रतिमाह दिया जा रहा था। राज्य की 2017-18 की बजट घोषणा के दौरान माननीय मुख्यमंत्री महोदया द्वारा कुक कम हेल्पर के मानदेय में प्रतिव्यक्ति रु.200 प्रतिमाह वृद्धि की गई। दिनांक 01-04-2017 से कुक कम हेल्पर्स को मानदेय के रूप में प्रतिव्यक्ति रु 1200 प्रतिमाह दिया जा रहा है।